हॉटलाइन: 1800 102 2007
हॉटलाइन: 1800 102 2007
Search Business Opportunities

अब दिल्ली हाई कोर्ट रखेगा ऑनलाइन फार्मेसियों पर नियंत्रण

याचिका में आरोप लगाया गया है कि ऑनलाइन फार्मेसियां किसी भी नियामक प्रतिबंध के बिना संचालित हो रही थीं।

By Content Writer
अब दिल्ली हाई कोर्ट रखेगा ऑनलाइन फार्मेसियों पर नियंत्रण

चूंकि ग्राहक डिजिटल दुनिया से प्रभावित रहते हैं इसलिए दवा कंपनियां भी इसकी तरफ अपने कदम बढ़ाना चाहती हैं। डिजिटल टेक्नोलॉजी, परिवर्तनों के इस युग में लगातार बढ़ती भूमिका निभा रही है जिसकी विशेषता रोगियों/ चिकित्सकों, ग्राहकों की एक नई श्रृंखला को देखना हैं।

हाल ही में, दिल्ली हाई कोर्ट ने 'अवैध' ऑनलाइन फार्मेसियों को बंद करने के लिए दक्षिण केमिस्ट और वितरक संघ द्वारा बनाई गई याचिका पर केंद्र की प्रतिक्रिया मांगी है।

उल्लंघन नियम और विनियम

कुछ ऑनलाइन फार्मेसियों को दवाओं और निर्धारित दवाओं को बेचने के लिए जाना जाता है। याचिका ने आरोप लगाया कि ये ऑनलाइन फार्मेसियां किसी भी नियामक प्रतिबंध के बिना परिचालन कर रही थीं। यह ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, फार्मेसी एक्ट और प्रासंगिक नियमों और विनियमों का उल्लंघन करता है।

ऑफलाइन फार्मेसियों को ईंट और मोर्टार की दुकानों के रूप में जाना जाता है। इन ऑनलाइन फार्मेसियों को किसी भी नियम द्वारा शासित नहीं किया जाता। याचिका ने चिकित्सकीय दवाओं की बिक्री के लिए ऑनलाइन फार्मेसियों के खिलाफ कार्रवाई करने की दिशा भी मांगी थी।

सार्वजनिक स्वास्थ्य को प्रभावित करना

इन वेबसाइटों के विनियम में अधिकारियों की निष्क्रियता के कारण सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए भी यह गंभीर खतरा बन गया है। इन ऑनलाइन फार्मेसियों ने इंटरनेट पर एंटीबायोटिक्स, नारकोटिक और साइकोट्रॉपिक दवाओं सहित निर्धारित दवाएं आसानी से उपलब्ध करवाई हैं। कई दवाओं में व्यसन बनाने की प्रवृत्ति होती है और उनकी आसान उपलब्धता और अनचेक उपयोग उपभोक्ता के स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान पहुंचाता है।
यह न केवल समानता, जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार का उल्लंघन करता है बल्कि सार्वजनिक स्वास्थ्य पर गंभीर विपरीत परिणाम भी देता है। सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि नागरिकों के स्वास्थ्य के अधिकार का इन निर्धारित दवाओं की अनैतिक उपलब्धता से समझौता ना हो।

नियमों और विनियमों में समानता

ऑनलाइन फार्मेसी का आगमन उपभोक्ताओं के बीच लागत प्रभावशीलता और उच्च गति वितरण मरीजों के दरवाजे तक के कारण यह लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है। दक्षिण केमिस्ट और वितरक संघ के सदस्यों द्वारा संचालित फार्मेसी स्टोर को छूट प्रदान करके अपने व्यापार का विज्ञापन या प्रचार करने की अनुमति नहीं है। जबकि दवाइयों की छूट और कम लागत ऑनलाइन फार्मेसियों की सफलता के पीछे प्रमुख कारकों में से एक है, जो कानून से पहले समानता के अधिकार का उलंघन करता है।

याचिका ने यह भी सुनिश्चित करने के लिए अपील की है कि ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों फार्मेसीज के व्यवसाय एक तरह से सामान हैं और इनके नियम और अधिनियम भी दोनों समान ही होने चाहिए।

टिप्पणी
संबंधित अवसर
  • Furniture/Home Decor & Furnishing
    About Us: We are the global providers of Onyx quarried from..
    Locations looking for expansion Karnataka
    Establishment year 2017
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size
    Space required -NA-
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type MultiUnit
    Headquater Bangalore Karnataka
  • Juices / Smoothies / Dairy parlors
    About Us: We are likely to bring about a revolution in..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 2015
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 5lac - 10lac
    Space required 35
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai Maharashtra
  • Other Vocational Training
    Ever since its inception way back in 1998, IWP has..
    Locations looking for expansion Delhi
    Establishment year 1998
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 1200
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater New delhi Delhi
  • About Us: ARC, a premium brand of Jindal Stainless Group, is..
    Locations looking for expansion New Delhi
    Establishment year 2003
    Franchising Launch Date 2003
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 800
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Delhi New Delhi
शायद तुम पसंद करोगे
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
ज़्यादा कहानियां

Free Advice - Ask Our Experts