व्यवसाय के अवसर खोजें

कॉर्पोरेट ट्रेनिंग से रिटेल सेक्टर में इस तरह बढ़ा सकते हैं प्रोडक्टिविटी

कार्यस्थल में विकास और प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के लिए शिक्षा क्षेत्र विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रों से हाथ मिला रहा है।

By Jr. Writer
कॉर्पोरेट ट्रेनिंग से रिटेल सेक्टर में इस तरह बढ़ा सकते हैं प्रोडक्टिविटी

एक रिपोर्ट के मुताबिक, वैश्विक रिटेल बाजार के 2016 से 5 प्रतिशत के रिकॉर्ड-ब्रेकिंग ग्रोथ को छूने की उम्मीद है, जो 13.2 ट्रिलियन डॉलर से अधिक है। इस बीच, भारत 5वीं सबसे बड़ी रिटेल इंडस्ट्री के रूप में उभरी है, जो 2018 के अंत तक 950 अरब अमेरिकी डॉलर तक बढ़ने की उम्मीद है।

रिटेल फ्रैंचाइज़र विशेष रूप से शैक्षिक उपकरण का उपयोग अपने कार्यस्थल पर कर्मचारियों के प्रदर्शन में सुधार के लिए कर रहे हैं। भारतीय रिटेल सेक्टर ने हाल ही में कर्मचारी प्रशिक्षण कार्यक्रमों का विकास देखा है, जिससे बिक्री में वृद्धि के साथ कर्मचारियों की प्रगति में भी वृद्धि हुई है।

यह जरूरी क्यों है?

आम तौर पर, फ्रैंचाइज़र ऐसे कार्यक्रमों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं क्योंकि इसमें कैपिटल से अधिक राशि इंवेस्ट करने की आवश्यकता होती है। लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि ट्रेनिंग आपके व्यवसाय के लिए लम्बे समय तक सहायक हो सकती है। ऐसा माना जाता है कि प्रशिक्षण सामग्री के बारे में अच्छी तरह से शिक्षित और सूचित कर्मचारियों का ज्ञान संचार कौशल, उद्योग और उत्पादों के बारे में काफी हद तक बढ़
जाता है।

रिटेल इंडस्ट्री अपनी समृद्ध कारोबार दर के लिए जानी जाती है जहां कर्मचारी, प्रशिक्षण कर्मचारी प्रतिधारण दर में सुधार कर सकते हैं और अपनी नौकरी की जिम्मेदारियों को अच्छे से पूरा कर सकते हैं।

बढ़ती बिक्री में कॉर्पोरेट ट्रेनिंग के परिणाम

ऐसे कार्यक्रमों के परिचय से आपके व्यवसाय को सूझ-भूझ वाले कर्मचारी और उत्तम कर्मचारी मिल सकते हैं, जिससे ग्राहकों को संगठन के उत्पादों और सेवाओं को खरीदने के लिए आश्वस्त किया जा सकता है। यह ग्राहकों को नवीनतम प्रक्रियाओं और सेवाओं के बारे में जागरूक रखने में मदद करता हैं, जिससे ग्राहकों के साथ संचार प्रक्रिया आसान हो जाती है। इससे ग्राहकों की संतुष्टि होती है और उच्च बिक्री तथा मुनाफा होता
है।

जानकारी तक आसान पहुंच

प्रशिक्षण प्रक्रिया की मदद से एक कर्मचारी बेहतर तरीके सीख पाता हैं कि ग्राहकों को बेहतर सेवा कैसे देनी है। वे ई-लर्निंग प्लेटफार्मों में लॉग इन कर सकते हैं, और हर प्रकार की जानकारी ले सकते हैं जिससे उनको आपके प्रोडक्ट्स के बारे में हर प्रकार की जानकारी मिल सके।

यह प्रक्रिया कर्मचारियों को बिना किसी समय में अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में अधिक सहजता से काम करने में मदद करती है।

टिप्पणी
संबंधित अवसर
  • Others Travel
    About Us: eBike is one of it's kind Revolutionary startup aiming..
    Locations looking for expansion Punjab
    Establishment year 2018
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 1100
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Amritsar Punjab
  • Competitive Exam Coaching Institute
    IMS being in the education sector for over 40 years,..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 1977
    Franchising Launch Date 2001
    Investment size Rs. 2lac - 5lac
    Space required 1500
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai City Maharashtra
  • Plumbing, Sanitary Ware and Bathroom Fittings
    About Us: JAAZ Corporation Pvt. Ltd. is one of leading..
    Locations looking for expansion Gujarat
    Establishment year 2009
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 600
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Vadodara Gujarat
  • Tea and Coffee Chain
    About Dr. Bubbles: Dr. Bubbles is one of the few dedicated..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 2015
    Franchising Launch Date 2016
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required -NA-
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai City Maharashtra
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
More Stories

Free Advice - Ask Our Experts