हॉटलाइन: 1800 102 2007
हॉटलाइन: 1800 102 2007
Search Business Opportunities

भारत के स्थानीय सरकारी विद्यालय

कुछ विद्यालय है, जो इतने उल्लेखनीय परिणाम दे रहे हैं कि उन राज्यों में निजी विद्यालयों की भूमिका गौण हो गई है और दूसरी तरफ ऐसे विद्यालय भी है जो केवल नाम के लिए खुले हैं।

By Senior Sub-editor
भारत के स्थानीय सरकारी विद्यालय

‘शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिसका उपयोग करके आप दुनिया को बदल सकते हैं।’ - नेल्सन मंडेला

भारत में सरकारी विद्यालयों को हमेशा उपेक्षित या कम करके आंका गया है। कुछ ऐसे राज्य है, जो अपने विद्यालयों और इन विद्यालयों द्वारा प्रदान की जाने वाली शिक्षा को गंभीरता से लेते हैं और बाकी सभी विद्यालयों ने समाचार चैनलों में पहले ही अपने लिए जगह बना ली है, जहाँ पर इन विद्यालयों में सोते हुए शिक्षकों या दोपहर का भोजन बनाने के बर्तनों में छात्रों के गिरने का मजाक उड़ाया जा रहा है।

कुछ विद्यालय है, जो इतने उल्लेखनीय परिणाम दे रहे हैं कि उन राज्यों में निजी विद्यालयों की भूमिका गौण हो गई है और दूसरी तरफ कुछ ऐसे विद्यालय है, जो ‘सर्व शिक्षा अभियान’ के नाम पर डाटा में केवल संख्याएं भरने के लिए खुले हुए हैं। 

नीचे कुछ महत्वपूर्ण बदलाव दिए गए हैं, जो शीर्ष क्रम के सरकारी विद्यालयों द्वारा अपनाए गए हैं।

  1. शिक्षा का महत्व

भारत के अधिकांश हिस्सों में गरीब, निम्न मध्यमवर्गीय और गरीबी रेखा के नीचे लोग हैं, जो अपने बच्चों को विद्यालय में भेजने में असमर्थ होते हैं।

इसके अलावा, उन्हें लगता है कि अतिरिक्त हाथ उन्हें परिवार के लिए रोटी कमाने में मदद करेंगे। इसलिए संबंधित विद्यालयों के लिए नियुक्त शिक्षकों द्वारा इन क्षेत्रों में, दैनिक जीवन में शिक्षा के महत्व के विषय में जागरूकता लाना अत्यंत आवश्यक है।

माता-पिता को अपने बच्चों को विद्यालय में भेजने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें यह समझाना बहुत जरूरी है कि शिक्षा एक परिवार या समुदाय में क्या-क्या बदलाव ला सकती है।

  1. गतिविधि आधारित शिक्षा

विभिन्न प्रकार के छात्र होते हैं, जो अलग-अलग बुद्धिमत्ता के साथ अलग-अलग पृष्ठभूमि से आते हैं। इसके अलावा शारीरिक रूप से विकलांग या मानसिक समस्या से ग्रस्त छात्र भी होते हैं, जिनके साथ घुलने-मिलने में बाकी छात्रों का कदाचित थोड़ा समय लगता है या ऐसे छात्रों को दूसरे छात्रों के साथ मिलाना एक दिलचस्प, लेकिन कठिन काम हो सकता है।

इसलिए विद्यालयों में मजेदार गतिविधियों की शुरूआत करने से उन्हें उनके दैनिक जीवन में आने वाली मुश्किलों को सामना करने में मदद मिलेगी। इससे इन बच्चों की असली प्रतिभा को उजागर करने में मदद मिलेगी।

वैसे भी बच्चों के साथ व्यवहार करने के विभिन्न तरीके होते हैं और मजेदार गतिविधियाँ, सांस्कृतिक कार्यक्रम, थियेटर और नाटक साथ करने से उन्हें उनकी छिपी प्रतिभा का एहसास हो जाता है।

  1. तकनीक का परिचय

कम्प्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन्स आसानी से उपलब्ध हैं और सरकार यह चीजें, माध्यमिक और उच्च-माध्यमिक शिक्षा के लिए विद्यालयों को मुफ्त में देती है। 

कुछ विद्यालय है, जो छात्रों को तकनीकी ज्ञान और अध्ययन में इसका उपयोग करने के बारे में जागरूक करने के लिए इन तकनीकों का फायदा उठाते हैं।

छात्रों को अध्ययन में तकनीकी उपयोग के बारे में जागरूक करने से उन्हें भविष्य में नौकरी और शोध के लिए तैयार होने में मदद मिलेगी।

  1. रोल प्लेः

विभिन्न विषय होते हैं, जिनके बारे में छात्र, विद्यालय में रहते हुए जान सकते हैं। इसलिए उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने के लिए डेमो कक्षाएं आयोजित की जा सकती है।

इन डेमो कक्षाओं में उन्हें राजनीति पढ़ाने और राजनीति में विभिन्न पदों की भूमिका निभाते हुए निर्णय लेना और उस पर काम करना सिखाया जा सकता है। इससे वह जिम्मेदार बनते है और साथ ही विषय को गहराई से सीखने में मदद मिलती है।

शैक्षणिक दृष्टि से कमज़ोर छात्रों के लिए विशेष कक्षाएं आयोजित की जा सकती है, जिसमें शैक्षणिक दृष्टि से अच्छे छात्र, शिक्षक की भूमिका निभा सकते हैं और अपने शिक्षण कौशल को बढ़ा सकते हैं।

छात्रों द्वारा राजनीति, साहित्य, शिक्षण, बागवानी और बहुत से विषयों पर डेमो कक्षाएं की जा सकती है।

इसलिए यह शिक्षक के साथ ही माता-पिता का भी कर्तव्य है कि वह बच्चों के दिमाग को जीवन में अपने मूल्य का आंकलन करने, समझने, जानने और विकसित करने का मौका दे।

जैसे एक कहावत है, ‘बच्चे गीले सीमेंट की तरह होते हैं, जो कुछ भी उन पर गिरता है, वह एक छाप बना देता है’ - हैम जिनोट, बाल मनोवैज्ञानिक।

टिप्पणी
संबंधित अवसर
  • Quick Service Restaurants
    About:Baba Da Dhaba is a brand that serves lip-smacking North..
    Locations looking for expansion Karnataka
    Establishment year 2015
    Franchising Launch Date 2017
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 350 - 12 Sq.ft
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Bangalore Urban District Karnataka
  • About Us: The Arvind Limited Legacy Since 1931, Arvind has been the..
    Locations looking for expansion Gujarat
    Establishment year 2010
    Franchising Launch Date 2010
    Investment size
    Space required 700
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type MultiUnit
    Headquater Kalol Gujarat
  • Cosmetics & Beauty Product Stores
    About Us: Vega Industries Private Limited, Launched in 2000, formerly known..
    Locations looking for expansion New Delhi
    Establishment year 2001
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 50
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Delhi New Delhi
  • Other Vocational Training
    Ever since its inception way back in 1998, IWP has..
    Locations looking for expansion Delhi
    Establishment year 1998
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 1200
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater New delhi Delhi
शायद तुम पसंद करोगे
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
ज़्यादा कहानियां

Free Advice - Ask Our Experts