हॉटलाइन: 1800 102 2007
हॉटलाइन: 1800 102 2007
Search Business Opportunities

आज के शिक्षा पारितंत्र में कौशल प्रशिक्षण का महत्व

शैक्षिक परितंत्र में कौशल प्रशिक्षण महत्वपूर्ण क्यों है, उससे क्या लाभ मिलते हैं और उससे खुद के विकास में कैसे मदद होती है, इन पर एक दृष्टिकोण।

By Vice President, Operations
आज के शिक्षा पारितंत्र में कौशल प्रशिक्षण का महत्व

जनसांख्यिकी लाभांश की दृष्टि से विश्व का सबसे युवा देश होने के बावजूद, भारत की सिर्फ 2% श्रमशक्ति कुशल है, जबकि तुलना में द.कोरिया की 96%, चीन की 45%, यूएसए की 50-55% और जर्मनी की 74% श्रमशक्ति कुशल है। इतने सारे वर्ष हम उच्च शिक्षा पर ध्यान देते रहे और एम्प्लॉएबिलिटि कोशंट या रोजगार क्षमता बढ़ाने और कौशल प्रशिक्षण प्रयासों द्वारा कुशल मानव-शक्ति निर्माण करने की दिशा में विशेष कुछ नहीं किया।

भारतीय शिक्षा क्षेत्र ने संस्थाओं तथा छात्रों की संख्या के हिसाब से पिछले कुछ दशकों में तेज विकास किया है। यूजीसी की रिपोर्ट के अनुसार, 1950-51 में 30 विश्वविद्यालयों से संलग्न 750 महाविद्यालय थे। 2014-15 में यही संख्याएं बढ़्कर 727 विश्वविद्यालय, 35,000 महाविद्यालय और 13,000 स्वायत्त संस्थान इतनी हो गई हैं।

इतने जबरदस्त सांख्यिकी विकास के बावजूद, उच्च शिक्षा युवाओं को नियोक्ता की आवश्यकतनुसार नौकरी में लेने योग्य बनाने में खास सफल नहीं हो पाई है। इसका कारण है   निम्न कौशल या लो स्किल कोशंट।

आज के वैश्विकरण के युग में, कौशल प्रशिक्षण किसी भी देश के स्वस्थ आर्थिक विकास के हेतु बढ़ती कार्यक्षमता और उत्पादकता के लिए अनिवार्य घटक है। भारत में ये अभी प्राथमिक अवस्था है, हालांकि कुशल श्रमशक्ति की मांग बहुत बड़ी है। इस खाई को पाटने के लिए कौशल परितंत्र की पुनर्रचना करना आवश्यक है।

एक ओर जहां भारत वैश्विक आर्थिक महासत्ता बनने की अपनी राह बना रहा है, उसकी कामकाजी जनसंख्या को रोजगारक्षम कौशल से लैस करना बहुत जरूरी है। आज भारत विश्व के सबसे युवा देशों में से एक है। उसकी 62% से अधिक जनसंख्या कामकाजी आयु वर्ग (15-59 वर्ष) में है और कुल जनसंख्या के 54% से लोग 25 वर्ष से कम आयु के हैं।

कौशल आधारित शिक्षा रोजगार क्षमता पर ध्यान केंद्रित करते हुए इन मुद्दों पर काम करती है:

छात्रों को व्यावहारिक और क्रियाशील कौशल करना, जो उन्हें रोजगार के लिए तैयार बनाए।

रोजगार आधारित कौशल व्यापक विशेषज्ञता की ओर ले जाता है, जिससे प्रत्याशी की प्रभावकारिता बढ़ती है।

कौशल विकास हस्तक्षेप की मदद से आत्मविश्वास बढ़ता है, केंद्रित परिणाम-आधारित शिक्षा के द्वारा व्यक्ति की उत्पादकता और क्षमता का विकास होता है।

2014 में हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के दूरदर्शी नेतृत्व में कौशल विकास को बढ़ावा मिलने लगा – उन्होंने ‘स्किल इंडिया मिशन’ को प्रोत्साहन दिया और सभी कौशल विकास गतिविधियों का संचालन करने, क्षमता और तांत्रिक/व्यावहारिक प्रशिक्षण के संरचना-निर्माण और उसके मूल्यांकन के लिए कौशल विकास तथा उद्यमिता कौशल मंत्रालय का निर्माण भी किया। ये मंत्रालय 2022 तक 40 करोड़ श्रमशक्ति को कुशल बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

एमएसडीई ने इस परिणाम-आधारित कौशल विकास योजना की फ्लैगशिप ‘प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना’ का शुभारंभ किया। इस कौशल प्रमाणिकरण और पुरस्कार योजना का उद्देश्य है भारतीय युवाओं को भारी संख्या में इस परिणाम-आधारित कौशल विकास योजना में सहभागी होने के लिए प्रेरित करना ताकि वे रोजगार-क्षम बन जाएं और अपनी आजीविका कमा सकें।

नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन, एमएसडीई के अंतर्गत एक केंद्रीय आधारभूत संस्था है, जो प्रशिक्षण भागिदारों को वित्तीय सहायता देकर सशक्त कौशल प्रशिक्षण क्षमता का निर्माण करने के लिए जिम्मेदार है।

एनएसडीसी, नेशनल स्किल क्वालिफिकेशन फ्रेमवर्क के अंतर्गत सभी प्रशिक्षण राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित और संलग्न करने पर काम कर रही है, जैसा कि राष्ट्रीय कौशल विकास नीति में निश्चित किया गया है। प्रस्तुत नीति का लक्ष्य सम्पूर्ण विश्व में मान्यता-प्राप्त प्रमाणित परितंत्र को लाना है।

भारत आने वाले वर्षों में कुशल राष्ट्रों में से एक के रूप में पहचान पाने के लिए सज्ज है। अब समय आ गया है कि उच्च शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण दोनों का एक साथ, एक ही जगह, एक ही पाठ्यक्रम के भाग के रूप में सहज और एकत्रित अस्तित्व हो। ये साध्य करने के लिए, उद्योग और शिक्षा क्षेत्र ने एक साथ काम करते हुए शिक्षा और रोजगारक्षम विशेषताओं से युक्त व्यावहारिक और क्रियाशील प्रत्याशियों को तैयार करना बहुत महत्वपूर्ण है।

यह लेख आईटीएम ग्रुप ऑफ इंस्टिट्युशन्स के वाईस प्रेसिडेंट, अनुपम सिन्हा द्वारा लिखित है

टिप्पणी
image
संबंधित अवसर
  • Express Food Joints / Drive Through
    About Us: Classic dishes are a staple, but sometimes you need..
    Locations looking for expansion Rajasthan
    Establishment year 2016
    Franchising Launch Date 2017
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 200
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Jaipur Rajasthan
  • Quick Service Restaurants
    About Chaat Adda: Chaat Adda is a unique concept where we..
    Locations looking for expansion Madhya pradesh
    Establishment year 2014
    Franchising Launch Date 2014
    Investment size Rs. 5lac - 10lac
    Space required 150
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Indore Madhya pradesh
  • Quick Service Restaurants
    About Pizza BoxPizza box is located in Vile Parle East..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 2014
    Franchising Launch Date 2015
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 200 - 450 Sq.ft
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai City Maharashtra
  • Robotics & Technical Training
    About Us : We would like to introduce ourselves as an..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 2013
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 20lac - 30lac
    Space required 1000
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Mumbai Maharashtra
शायद तुम पसंद करोगे
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
ज़्यादा कहानियां

Free Advice - Ask Our Experts