व्यवसाय के अवसर खोजें

फ्रैंचाइजी उद्योग महेंद्रसिंह धोनी से कौन-सी बातें सीख सकता है?

फ्रैंचाइजी उद्योग लगातार विकसित हो रहा है, जो भारतीय बाजार में घुसपैठ करने वाले कई राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय ब्रांडों को देख रहा है।

By Jr. Writer
फ्रैंचाइजी उद्योग महेंद्रसिंह धोनी से कौन-सी बातें सीख सकता है?

आज अपना 37 वां जन्मदिन मनाते कैप्टन कूल,  महेंद्रसिंह धोनी ने लगभग हर चीज हासिल की है और भारतीय क्रिकेट का चेहरा बने हैं। तो, उनके जन्मदिन पर, आइए देखें कि फ्रैंचाइजींग दुनिया इस शांत और विनित एमएसडी से क्या सीख सकती है। 

शांत रहना एक मंत्र है 
कैसी भी खराब परिस्थितियों के बावजूद, आप पाते हैं कि धोनी मैदान में सबसे शांत व्यक्ति हैं। इसी प्रकार, फ्रैंचाइजी देने वाले उद्योग को शांत रहना चाहिए। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि परिस्थिति क्या है। उन्हें कठिन समय के लिए सामने आना होगा, जहाँ शांत रहना उन्हें तर्कसंगत निर्णय लेने में मदद कर सकता है, जो ग्राहकों और व्यापार दोनों की स्थिति को बेहतर बनाता है। इसलिए ऐसी परिस्थितियों के लिए एक शांत और सकारात्मक तरीके से प्रतिक्रिया करना सफलता की कुंजी हो सकता है। 

जमीनी रहें 
महेंद्रसिंह धोनी को मैच के बाद निराशाजनक या प्रसन्नतचित्त देखना बड़ा दुर्लभ है। वे जानते हैं कि जीतना और हारना खेल का एक हिस्सा है। फ्रैंचाइजी को इस भाव को अपनाना चाहिए, जो उन्हें नई उपलब्धियों तक पहुंचा सकता है। विशेष परिणाम न मिलने के बावजूद फ्रैंचाइजी चलाने के दौरान कभी-भी अपनी जमीन नहीं खोना महत्वपूर्ण होता है। वास्तव में, फ्रैंचाइजी को सफलता को अंगीकार करना और असफलताओं को स्वीकार करना सीखना चाहिए, जो सफलता के लिए पुनः कार्य करने जैसा है। 

आगे से नेतृत्व 
2011 विश्व कप फाइनल में धोनी द्वारा खेली गई पारी को कोई भी भूल नहीं सकता। वे एक अधिनायक का उत्कृष्ट उदाहरण है, जिनकी टीम ने असंख्य सफलताएँ हासिल की है। फ्रैंचाइजी को उदाहरण प्रस्तुत कर नेतृत्व करने में सक्षम होना चाहिए। खासकर जब टीम को इसकी सख्त आवश्यकता हो। कैसे भी हालातों से ऊपर उठना, टीम को समापन रेखा से परे ले जाना और उपलब्धि में निर्णायक भूमिका निभाना, उसका धर्म होना चाहिए। 

श्रेय को साझा करना 
धोनी टीम की जीत का श्रेय कभी नहीं लेते हैं। कोई साक्षात्कार हो या मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस, उन्हें हमेशा टीम के सम्मिलित प्रयास की सराहना करते हुए ही देखा गया है। इसी तरह, फ्रैंचाइजी को पता होना चाहिए कि उनकी टीम के सदस्यों के साथ किसी भी श्रेय को कब और कैसे साझा करना है। यह जरूरी है, क्योंकि यह टीम सदस्यों के आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे वे विशिष्ट और सुरक्षित महसूस करते हैं और उन्हें अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा मिलती है।

टिप्पणी
संबंधित अवसर
  • Join Hands With No.1 U.K. Concept International Preschool Chain SANFORT is..
    Locations looking for expansion Uttar Pardesh
    Establishment year 2009
    Franchising Launch Date 2010
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 2000
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Ghaziabad Uttar Pardesh
  • Professional Education coaching
    About: ICA was founded in 1999, and began its journey with..
    Locations looking for expansion Delhi
    Establishment year 1999
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required -NA-
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater New delhi Delhi
  • Fine Dine Restaurants
    About Us: Chaat Lounge is brought to you by Om Ganeshaya..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 2014
    Franchising Launch Date 2014
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 300
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai Maharashtra
  • Beauty Salons
    About Us: Monsoon Salon & Spa is the best hair & beauty..
    Locations looking for expansion New Delhi
    Establishment year 2012
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 1200
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater Delhi New Delhi
शायद तुम पसंद करोगे
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
More Stories

Free Advice - Ask Our Experts