हॉटलाइन: 1800 102 2007
हॉटलाइन: 1800 102 2007
Search Business Opportunities

फ्रैंचाइज़िंग के बारे में ये जानकारी हो सकती है फायदेमंद

फ्रैंचाइज़िंग को भारते के महान क्षमता वाले बाजार में सफल होने का आसान तरीका माना जाता है।

By Junior Copy Editor
फ्रैंचाइज़िंग के बारे में ये जानकारी हो सकती है फायदेमंद

फ्रैंचाइज़ इंडिया और रिटेलर मीडिया की सीनियर एडिटर और सेशन मॉडरेटर पायल गुलाटी का कहना है कि फ्रैंचाइज़ी ने भारत में एक लंबा सफर तय किया है। भारतीय बाजार में करीब 4500 अतिरिक्त फ्रैंचाइज़र और 2 लाख संभावित फ्रैंचाइज़ी हैं। फ्रैंचाइज़िंग को भारते के महान क्षमता वाले बाजार में सफल होने का आसान तरीका माना जाता है।
सैनफोर्ट ग्रुप के संस्थापक और सीएमडी एस के राठौर कहते हैं, 'एक नाम ब्रांड बन जाता हैं जब उसके पीछे सफलता की कहानी होती है। फ्रैंचाइज़ी शुरू करने के लिए आपको अच्छी प्रतिष्ठा पानी होगी। व्यापार के लिए फ्रैंचाइज़ी को उचित प्रशिक्षण और शिक्षा दी जानी चाहिए।'

फ्रैंचाइज़र-फ्रैंचाइज़ी के बीच संतुलन बनाए रखें

कंपनी प्रणाली उन्मुख होनी चाहिए। उनसे एक अच्छी फ्रैंचाइज़र निवेश लागत भी लेनी चाहिए। आप जिस ब्रांड से कनेक्ट कर रहे हैं उसके साथ आपको भावनात्मक रूप से जुड़ा होना चाहिए। अपने ब्रांड की प्रतिष्ठा के बारे में सावधान रहें। सुनिश्चित करें कि आपका फ्रैंचाइज़ी आपके सभी सेट नियमों और विनियमों का पालन करता है और जिसके बिना फ्रैंचाइजी खत्म हो जाएगी। बॉडी मैकेनिक्स के सह-संस्थापक अक्षय चोपड़ा का कहना है, 'आपको भारतीयों के साथ वैसे ही डील करना होगा जैसे वे हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करें कि फ्रैंचाइज़र की विशेषता कम न हो।'

ग्राहकों को शिक्षित करने की जरूरत

विभिन्न नए विचारों के आने के साथ, अपने ग्राहकों को शिक्षित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह समय ले सकता है लेकिन आपके व्यवसाय को चलाने के लिए जरूरी है। उदाहरण के लिए, नवीनीकरण व्यवसाय भारत के लिए एक नई सोच है। इसलिए, इस क्षेत्र में व्यवसाय प्राप्त करने के लिए व्यवसायी को ये कॉन्सेप्ट ग्राहकों को समझाना और इस से जुडे हर मिनट के विवरण के बारे में उन्हें बताना जरूरी है।

खुद को अलग करना

क्लिअर देखो के सह-संस्थापक सौरभ दयाल ने अपना उदाहरण देते हुए बताया, 'आईवियर सेग्मेंट में, हम उत्पाद को 48 घंटों के भीतर ग्राहकों तक पहुंचाने का प्रयास करते हैं, जो अन्य लोग 10 दिनों तक पहुंचाते हैं।'
इतने सारे विरोधियों के साथ व्यवसाय को जारी रखने के लिए खुद को अलग रखना आवश्यक है। ग्राहक अब अलग-अलग चीजें चाहते हैं वे सांसारिक हो या आम नहीं चाहते। इसलिए हमेशा एक यूएसपी रखिए जो आपको बाजार में बाकी प्रतिस्पर्धा से अलग करता है।

टिप्पणी
संबंधित अवसर
  • School Tutoring
    About Us: Nava Vision is a company based at Bengaluru, India. Nava Vision..
    Locations looking for expansion Karnataka
    Establishment year 2015
    Franchising Launch Date 2019
    Investment size Rs. 10lac - 20lac
    Space required 10000
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater BENGALURU Karnataka
  • Men's footwear
    About: Established in 2010, Vision Footcare India Private Limited is promoted..
    Locations looking for expansion Delhi
    Establishment year 2010
    Franchising Launch Date 2018
    Investment size Rs. 30lac - 50lac
    Space required 600
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit
    Headquater New delhi Delhi
  • Courier & Delivery
    About Us: Arogya Herbs was established in 2013 with a thought..
    Locations looking for expansion Madhya Pradesh
    Establishment year 2013
    Franchising Launch Date 2013
    Investment size Rs. 2lac - 5lac
    Space required 100
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Indore Madhya Pradesh
  • Competitive Exam Coaching Institute
    IMS being in the education sector for over 40 years,..
    Locations looking for expansion Maharashtra
    Establishment year 1977
    Franchising Launch Date 2001
    Investment size Rs. 2lac - 5lac
    Space required 1500
    Franchise Outlets -NA-
    Franchise Type Unit, Multiunit
    Headquater Mumbai City Maharashtra
शायद तुम पसंद करोगे
Insta-Subscribe to
The Franchising World
Magazine
For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you
OR Click here to Subscribe Online
Daily Updates
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
ज़्यादा कहानियां

Free Advice - Ask Our Experts